शम्मा की चाहत में परवाना हर बार जला”सागर“.!
कम्बखत जानता सब फिर भी करीब आ ही रहा.!!

Filed under:

Source:: Mehfil101