तेरे दिल से बेवफाई के नग्में निकले,
नाचीज़ को क़ाबिल बना दिया.!

आवारा दिल का मालिक था”सागर“,
तेरे लफ़्ज़ों ने शायर बना दिया.!!

Filed under:

Source:: Mehfil101